Life Styleछत्तीसगढ़ सरकारी योजनाएँ 2022

धनतेरस पर चिटफंड निवेशकों के खातों में ट्रांसफर किये 7 करोड़ 33 लाख रूपए मुख्यमंत्री ने

Transfer to accounts of chit funders on Dhanteras

छत्तीसगढ़ के चिटफंड पीड़ितों को वापस मिला पैसा :-   जैसे कि मित्रों आपको पता है छत्तीसगढ़ के अधिकांश लोगों का  पैसा चिटफंड कंपनियों ने फंसाया और उनका पैसा इन कंपनियों में डूबा गया और उन सभी चिटफंड पीड़ितों के पैसा वापस करने का चुनावी घोषणा पत्र में भूपेश बघेल जी ने किया था,

आज धनतेरस के अवसर पर मुख्यमंत्री की इस घोषणा पर भी अमल के साथ निवेशकों को न्याय मिलना शुरू हो गया है। जिसके तहत धनतेरस के दिन जिसकी शुरुआत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने राजनांदगांव जिले से शाम 5 बजे वीडियो कांफ्रेसिंग के द्वारा किये ।

छत्तीसगढ़ में स्कूल कब खुलेगा ? एक बेटी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने दिया जवाब जानिए

निवेशकों को 7 करोड़ 33 लाख रूपए आज लौटा दिए ऑनलाइन बैंक खातो में 

अगर आप भी ऐसे किसी कंपनी में फसे थे तो आप का भी पैसा बहुत जल्द वापस होने वाला है जिसके तहत निवेशकों से धोखाधड़ी करने वाली एक चिटफंड कम्पनी याल्स्को रियल स्टेट एण्ड एग्रो फार्मिंग लिमिटेड पर सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उसकी सम्पत्ति कुर्क करके निवेशकों को 7 करोड़ 33 लाख रूपए आज लौटा दिए हैं। आपको बतादे की निवेशकों के खाते में ऑनलाईन राशि अंतरित की।

महत्‍वपूर्ण लिंक्‍स :-

CG  के रोजगार समाचार के लिए यंहा क्लिक करें 

चिटफंड कम्पनी याल्स्को रियल स्टेट एण्ड एग्रो फार्मिंग लिमिटेड के सम्पत्तियों की नीलामी 

राजनांदगांव की चिटफंड कम्पनी याल्स्को रियल स्टेट एण्ड एग्रो फार्मिंग लिमिटेड के विरूद्ध शिकायतें प्राप्त होने पर राजनांदगांव कलेक्टर ने सम्पत्तियों की जानकारी प्राप्त की थी, जिसमें डायरेक्टरों के स्वामित्व की कुल 292.36 एकड़ अचल सम्पत्ति पाई गई। इस भूमि की कुर्की का अंतिम आदेश विशेष न्यायालय द्वारा पारित किया गया था। इसके बाद संबंधित विभागीय अधिकारियों द्वारा कुर्क-सम्पत्तियों की नीलामी कराई गई। इस नीलामी से अब तक 8 करोड़ 15 लाख 34 हजार 345 रूपए प्राप्त हुए हैं।

एजेंटों को राहत… जानिए कैसे 

आपको बतादे की एजेंटों के प्रति शासन पूर्ण संवेदनशील है। पूर्व में स्थानीय एजेंटों को अपराधी बना दिया था, परन्तु वर्ष 2019 के बाद गिरफ्तार किये गये स्थानीय एजेंटों को 59 प्रकरणों में 104 एजेंटों को न्यायालय में शासकीय गवाह बनने हेतु आवेदन पत्र प्रस्तुत कराया है। विवेचनाधीन प्रकरणों में 42 प्रकरणों में 130 एजेंटों को शासकीय गवाह बनाया गया है।

छत्तीसगढ़ में स्कूल कब खुलेगा ? एक बेटी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने दिया जवाब जानिए

Back to top button
close